9.6 C
Innichen
Monday, October 25, 2021

Ameer Aadmi Kaise Bane?

Must read

आप में से कुछ के बच्चों के अच्छे नम्बर आये होंगे, इस बात पर आप बहुत खुश भी होंगे। आप अपने बच्चों को प्रेरित करते होंगे कि वो बहुत Ameer Aadmi Kaise Bane? यह जाने। आप अपने बच्चों से कहते भी होंगे कि देखो टाटा, अम्बानी, अडानी और जिंदल अपनी मेहनत से कितने बड़े आदमी बन गए हैं।

आप अपने बच्चों को प्रेरित भी करते होंगे कि वे भी मेहनत करें ताकि इन अमीरों की तरह सफल इंसान बनें और दुनिया में अपना नाम कमाएँ।

क्या सच में ये अपनी मेहनत से Ameer बने हैं?

ध्यान दीजिएगा..! Ameer बनने के लिए दो चीज़ें चाहियें होती हैं ‘प्राकृतिक संसाधन’ और ‘मेहनत’।

जितने भी सेठ हैं उन्होंने देश के संसाधनों पर कब्ज़ा किया और मजदूर की मेहनत के दम पर अमीर बन गए।

इसलिए, जब कोई अमीर कहे कि वह मेहनत से अमीर बना है। तो उससे पूछियेगा किसकी मेहनत से?

अमीर के लिए मेहनत करने वाला मजदूर जब अपनी मेहनत का पूरा मोल मांगता है तब क्या होता है? तब सरकार की पुलिस जाकर उस अमीर की तरफ से गरीब मजदूरों को लाठी से पीटती है। और मजदूर ज़्यादा ताकत दिखाएँ तो गोली से उड़ा देती है।

अगर मजदूर को उसकी मेहनत का पूरा पैसा दे दिया जाय तो कोई भी इंसान सेठ नहीं बन पायेगा।

दूसरी वस्तु जो अमीरी के लिए चाहिये, वह है “प्राकृतिक संसाधन”

प्राकृतिक संसाधनों का मालिक कौन है?

संविधान के मुताबिक़ देश की जनता। जनता के संसाधन क्या किसी एक व्यक्ति के हवाले किये जा सकते हैं? क्या हजारों किसानों की ज़मीन छीन कर किसी एक उद्योगपति को सौंपी जा सकती है?

नहीं सौंपी जा सकती है।

भारत के संविधान के नीति निर्देशक सिद्धांत कहते हैं। कि राज्य का कर्तव्य है कि वह नागरिकों के बीच समानता लाने की दिशा में काम करे। लेकिन अगर सरकार एक उद्योगपति के लिए हजारों लोगों की ज़मीन छीन कर उन्हें गरीब बनाती है तो सरकार यह काम संविधान के खिलाफ़ करती है यानि उद्योगपति संविधान के खिलाफ़ काम करके अमीर बनते हैं।

इसलिए अगर आप अपने बच्चों को इन उद्योगपतियों की तरह अमीर बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। तो आप अपने बच्चों को संविधान के खिलाफ़ जाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

खैर, आप को संविधान से क्या लेना-देना? आप तो यह सब मानते ही नहीं संविधान तो यह भी कहता है कि भारत का हर नागरिक बराबर है।

इसका मतलब है कि टाटा और बस्तर का किसान बराबर है। और टाटा के लिए बस्तर के किसान की ज़मीन नहीं छीनी जा सकती। लेकिन आप संविधान को कहाँ मानते हैं?

वैसे जब सरकार नक्सलवादियों की हत्या करती हैं तो आप कहते हैं कि उन्हें इसलिए मार दिया गया है क्योंकि यह संविधान को नहीं मानते।

हम आपसे पूछते हैं कि क्या आप और आपकी सरकार संविधान को मानते हैं?

नहीं आप संविधान को बिलकुल भी नहीं मानते, अगर संविधान सच में लागू हो जाय तो कोई भी इंसान सेठ नहीं बन सकता।

आइये, अब आपको बताते हैं टाटा सेठ के कारनामें

Ameer-banana-kya-sahi-hai

बस्तर में लोहंडीगुडा नामके गाँव में टाटा सेठ को एक लोहे का कारखाना लगाना है। किसान उस ज़मीन पर पीढ़ियों से खेती करते हैं। आदिवासियों ने अपनी ज़मीन छीनने का विरोध किया। कानून कहता है कि किसानों की ज़मीन लेने से पहले सरकार जन-सुनवाई करेगी। जन सुनवाई गाँव में ही होनी चाहिये। लेकिन लोहंडीगुडा में टाटा का कारखाना लगाने के लिए जन सुनवाई गाँव से चालीस किलोमीटर दूर कलेक्टर आफिस में रखी गयी। गाँव वाले जन-सुनवाई में ना आ सकें इसके लिए गाँव को चारों तरफ से पुलिस ने घेर कर रखा। बारहवीं कक्षा में पढ़ने वाली एक लड़की नें अपने घर के बाहर खड़ी होकर पुलिस का विरोध किया। तो सुरक्षा बलों के जवानों नें उस लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया।

सामाजिक कार्यकर्ता बेला भाटिया नें इस घटना के खिलाफ़ राष्ट्रीय महिला आयोग को शिकायत भेजी। लेकिन महिला आयोग नें कोई कार्यवाही नहीं की, बाद में पुलिस ने बेला भाटिया के ऊपर ही हमला कर दिया। अपने आपसे पूछिएगा कि इस पूंजीवादी लुटेरी व्यवस्था में आपके बच्चे हिंसक लुटेरे तो नहीं बन रहे?

अब अपने दिमाग से यह निकाल दीजिये कि Ameer Aadmi Kaise Bane? अमीर बनना अक्सर बहुत क्रूरता भरा होता है, कई बार हमें अपनी हिंसा दिखाई देती है कई बार हम उसे जान-बूझ कर अनदेखा कर देते हैं।

~हिमांशु कुमार

- Advertisement -

More articles

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisement -

Latest article