Dharm Guru | धर्म गुरूओं के सम्बंध में हमारी क्या राय है?

0
140
Dharm-Guru

“मेरी रुचि किसी भी किस्म के Dharm Guru में कभी नहीं रही है”। मैं आपको भी यही राय दूँगा कि धर्मगुरुओं को खोजने और उनमें उलझने से आपको कोई लाभ नहीं होने वाला है। हां, उल्टा नुकसान जरूर उठाना पड़ सकता है”।

Dharm Guru के बारे में हमारी राय

देखिये मैं तो सिर्फ बुद्ध पुरुषों, रहस्यवादियों और विज्ञान की खोजों में दिलचस्पी रखता हूं, और हमेशा से मेरा मानना रहा है कि “मानो नहीं जानो..!”, जो भी स्वयं की खोज में उतरने और उसको विकसित करने में सहयोगी हो, वही आपका गुरु है, अब वो पैंट-शर्ट पहनता हो या जींस-कुर्ता। मेरे लिए इस बात का कोई मतलब नहीं है। और बाकी पहनावे के साथ शुगर कोटेड बातें करने वाले जो आपको Dharm Guru लगते हैं मेरी नज़र में वो सब महज़ दुकानदार हैं, जो अपना कुछ ना कुछ बेचने के लिए तमाम तरह के प्रलोभन देकर आपको फँसाते हैं।

Dharm Guru बनने के पीछे का राज क्या है?

सभी तरह के तथाकथित Dharm Guru जिसमें कि मौलवी, पादरी, पंडित या अन्य इसमें सभी तरह के Dharm Guru आते हैं ये सभी अपनी ख़ुद की मनगढ़ंत मान्यताओं, तौर-तरीकों और ऊलजलूल बातों को लोगों पर थोपने वाले, और उनका शोषण करने वाले लोग हैं, ये बिना अनुभव और वास्तविक ज्ञान के पाखंडी लोग होते हैं, दरअसल इन्हें तो वास्तविक धर्म का मर्म और सत्य ज्ञात ही नहीं होता, और ना इनकी इसमें कोई रुचि होती है। इन्हें तो बस अपनी दुकान चलाने के लिए अंधभक्तों और अंध-विश्वासियों की भीड़ चाहिए होती है। जो सिर्फ उनका गुणगान करे, और इनकी हां में हां मिलाए व उनके कारोबार को चलाने में मददगार साबित हो, और इनकी ख़ुद की स्वार्थपूर्ति और महिमा मंडन में सहयोगी हो ऐसे तथाकथित धर्मगुरूओं के अपने-अपने एजेंडा और स्वार्थ होते हैं, इनका सत्य और धर्म से कोई लेना-देना नहीं होता।

इन्हें Dharm Guru कहना अपराध के बराबर है!

इन्हें Dharm Guru कहना ही अपराध के बराबर है,
ये सिर्फ सांप्रदायिक नेता या किताबी पंडित, मौलवी से ज्यादा कुछ भी नहीं हैं।
इनकी सारी विद्वता का आधार तथाकथित वह धर्मग्रंथ होते हैं,
जिन्हें अब तक कूड़े के ढेर में फेंक देना चाहिए था
लेकिन हमारे अंधविश्वासी समाज ने उसे बकायदा संभाल कर रखा हुआ है।
और ये तथाकथित दुकानदार उसमें लिखी बातों में अपने मनमाने अर्थ फिट कर
लोगों को दिग्भ्रमित कर उनकी मूर्खता, भय, लोभ और अंधविश्वासों के कारण उनका शोषण करते हैं,
इस खूबसूरत दुनिया में ज़्यादातर झगड़ों के निर्माता, प्रचारक और प्रसारक यही लोग हैं।
दुष्ट व ख़तरनाक राजनीतिज्ञ इनके सबसे घनिष्ठ मित्र होते हैं,
आज़ इन दोनों की जुगलबंदी से ही पूरा विश्व पीड़ित है।
यदपि ऐसा अतीत से ही होता आया है, और वर्तमान में भी ऐसा ही हो रहा है,
और शायद आगे भी ऐसा ही होता रहे!

क्योंकि अंधभक्त सांप्रदायिक नेताओं के द्वारा रचे हुए जाल एंव अपनी मूर्खता व अंधी दृष्टि की वजह से सदैव इस फैलाए गए कपट जाल में फंसकर अपना और दूसरों का विनाश करते रहते है और सच्चे और वास्तविक लोगों को सूली, अपमान और ज़हर दे दिया जाता है।

भारत में कौन है वास्तविक धर्मगुरु?

मैं तो कहता हूँ कि आज़ कोई भी वास्तविक Dharm Guru नहीं है
क्योंकि वास्तविक गुरु वो होता है जो आपको, आपके सत्य की ओर उन्मुख करने में सहयोगी और मार्गदर्शक हो,
यही धर्म और धार्मिक होने का वास्तविक अर्थ है।
जो अपने होने और इस जगत के सत्य को जान चुके हैं ऐसे सच्चे गुरु मिलना ही दुर्लभ है।
अब इतना सा सत्य तो सभी समझते है कि “एक आँख वाला ही अंधों को रास्ता दिखा सकता है”।
फिर भी ये देखकर आश्चर्य होता है कि-

इस दुनिया में अंधे ही अंधों को रास्ता दिखाने का प्रयत्न कर रहे हैं और मज़े की बात तो यह है कि यह हो रहा है बड़े आत्मविश्वास और आडम्बरों के साथ।

गुरु की पहचान क्या है?

अब चूंकि वास्तविक गुरु तो कोई दावा नहीं करता वो तो सिर्फ आपकी सम्भावना को सच होने में सहयोगी होता है, वो सिर्फ इशारे देता है, वास्तविक विधियाँ बताता हैं ताकि आप अपने आत्म-स्वरुप को जान सकें, वो कोई भी बंधी हुई धारणाएं आपको नहीं देता, वो आपको स्वयं अनुभव में उतारने के लिए सक्षम बनने में सहयोगी होता है। वास्तविक गुरु आपकी बैसाखी नहीं बनता वो तो ख़ुद आपको आत्मनिर्भर बनाता है, वो आपको स्वयं जानने और खोजने और अनुभव को उपलब्ध होने की दिशा में सहयोगी होता है, वो एक उत्प्रेरक की तरह होता है जो आपकी आतंरिक सम्भावना को प्रकट कराने में उचित सहयोग प्रदान करता है। वो एक मार्गदर्शक या दिशा सूचक की तरह होता है ताकि आप सही मार्ग की ओर गति कर सकें और आतंरिक विकास को उपलब्ध हो सकें, वो आपको कोई धारणा और ज्ञान नहीं देता, वो आपको शून्य और खाली होने में मददगार होता है, ताकि आपका सत्य आपके सामने प्रकट हो सके, यही आत्मोपलब्धि धर्म है, यही वास्तविकता है और ऐसे व्यक्ति ही वास्तविक गुरु होते हैं।

आज़ एक बात और समझ लीजिये कि-

धर्म का अर्थ स्वयं के होने का सत्य को जानना और खोजना होता है, कुछ भी… पहले जो माना गया, उसे आज़ मानना नहीं!

कपोल-कल्पित मान्यताओं को ‘धर्म’ न समझे!

बाकि ये संगठित धार्मिक गिरोह, जो धर्म का ‘ध’ भी नहीं जानते इस सम्बन्ध में सिर्फ बड़ी-बड़ी बातें करते हैं। क्योंकि हमारे समाज में मूढ़, अंधे और सिरफिरे पागलों का बहुत बड़ा समूह हैं, जो इनकी कपोल-कल्पित मान्यताओं को ‘धर्म’ समझने के लिए व अपनाने के लिए तैयार बैठा रहता है, वो इसके लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार रहते हैं। ये अपनी मूढ़-असत्य और अमानवीय मान्यताओं के सम्बन्ध में कोई तर्क पूर्ण बात सुनने-समझने को तैयार ही नहीं होते, ये लोग कभी भी वास्तविक ‘धर्म’ को उपलब्ध ही नहीं हो सकते। ये जो मानने पर जोर देते हैं, अल्पज्ञानी उसे बिना किसी ख़ोज या परख के उसे स्वीकार कर लेते हैं, और दूसरों के साथ इस मूर्खता को स्वीकार कर लेने के लिए अमानवीय तरीके इस्तेमाल करते हैं, दरअसल यही तो इस धरती के सबसे बीमार और ख़तरनाक प्रजाति हैं।

दरअसल जिन्हें आप गुरु समझते हैं वो सभी सिर्फ़ सांप्रदायिक प्रचारक है, उनमें से कोई भी धर्म से संबंधित नहीं है ना ही गुरु कहलाने लायक। इसमें से कुछ तो कथावाचक और शास्त्री है, या फिर मुल्ले, पादरी और मौलवी हैं, इनकी समझ और पहुंच किताबों के लिखे से ज्यादा कुछ भी नहीं है, धर्म यानी आंतरिक जगत के सम्बंध में इनका कोई भी व्यक्तिगत अनुभव और उपलब्धि कहीं भी देखने को नहीं मिलती। मेरी नजर में इससे ज्यादा ना इनका कोई मूल्य है ना महत्व, ‘धर्म’ अंदरुनी बात है इसका बाहयोपचरों, पाखंडों और आडंबरों, रूढ़ मृत मान्यताओं और मुर्दा सिद्धांतों से कोई भी लेना-देना ही नहीं होता।

गुरु हैं या कोई सांप्रदायिक नेता?

जिन्हें भी आप सच्चा गुरु मानते हैं, वो या तो सांप्रदायिक नेता हैं या फिर किसी न किसी पंथ को मानने वाले लोग, और ये सभी अपने-अपने धर्म का अपने-अपने ढंग से प्रचार करते हैं, मैं तो कहता हूँ कि इस धरती पर वास्तविक Dharm Guru आपको बिरले ही मिलेंगे बाकि तो सब अपने सम्प्रदायों और मूढ़ मान्यताओं के प्रचारक हैं। इनका काम अपने मत या संप्रदाय का सिर्फ़ बखान करना व अपना झंडा ऊँचा करना है। बाकियों की निंदा करके हर निकृष्ट तरीके से अपने मत या संप्रदाय में धर्म परिवर्तन करवाने का पेशा करते हैं। इनमें से एक का पिछले 1400 सालों में मानने वालों की संख्या बड़े संप्रदाय में विकसित हो गयी है।

हमें धर्मगुरुओं की जरूरत आखिर क्यों हैं?

यही पूरी दुनिया में अशांति और विग्रह के जन्मदाता हैं और सबसे बड़े आतंकवादी और मनुष्यता के शत्रु भी,
इनके सभी सांप्रदायिक प्रचारक छद्म रूप से धर्म का धंधा करते हैं।
इनसे आपको सावधान व इनके दूषित प्रभाव से ख़ुद को मुक्त रखना ही उत्तम है।
क्योंकि इन सभी का सारा धंधा चलता है लोगों के अज्ञान और उनकी अचेतन बुद्धि, भय और लालच पर,
स्वर्ग-नर्क का धंधा और परलोक की मनगढ़ंत कहानियां और प्रलोभनों पर,
कोई भी चेतनावान मनुष्य इन गधों और मूर्खों की बातों को बहुत महत्त्व नहीं दे सकता न
इनके पाखंड शोषण और मूढ़ता के व्यापार का समर्थन कर सकता है, यही मनुष्य होने का अर्थ और सार्थकता है।

इसे भी देखें: Bhagwan Aur Bhikhari | एक तुलनात्मक अध्ययन


Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.