8 C
Innichen
रविवार, मई 16, 2021

Speed of light in air | Magnetic Train 600 Km/h

Must read

आज Speed of light in air पर बात करें तो, क्या 600 किलोमीटर की गति से चलने वाली Magnetic train की कल्पना की है कभी? क्या Magnetic train की छत पर खड़े हो कर उस सफर को महसूस कर सकते हैं? जाहिर है, कि आपका जवाब ‘न’ में होगा!

क्योंकि हवा का अवरोध आपको उखाड़ कर उड़ा देगा। लेकिन अगर आप इस Magnetic Train के अंदर हैं तब? तब आपको Speed of light in air से बहुत कम Speed भी महसूस नहीं हो होगी, जड़त्व के कारण आप खुद को वैसे ही स्थिर पायेंगे,
चलेंगे फिरेंगे जैसे बाहर जमीन पर करते हैं।

अपनी हथेली पर एक लट्टू नचाइये और उसे हाथ पर लिये कुछ कदम चलिये,
मान लीजिये गोल नाचते उस लट्टू पर एक बैक्टीरिया चिपका है तो
उस पर कितने प्रकार की गति (Speed) अप्लाई हो रही है?
लट्टू की घूर्णन गति, उसे हाथ में ले कर आपके चलने की गति, आपको ले कर दौड़ती ट्रेन की गति।

ऐसा ही कुछ हमारे साथ भी होता है
जो Gravitational force (गुरुत्वाकर्षण बल) में बंधे Atmosphere (वायुमंडल) में हम महसूस ही नहीं कर पाते।
किसी Planet (ग्रह) के वातावरण का मतलब सिर्फ सतह भर नहीं होता
बल्कि पृथ्वी को लें तो Troposphere (क्षोभ मंडल), Stratosphere (समताप मण्डल),
Megasphere, Thermosphere (बाह्य वायुमंडल), Exosphere (बहिर्मंडल) समेत पूरा वातावरण होता है जो इस तरह हमारे साथ ही घूमता है
कि हमें लट्टू की तरह घूमती पृथ्वी की गति को महसूस ही नहीं कर सकते।

क्या आप जानते हैं, कि आप हमेशा 1000 मील प्रति घंटे की Speed पर है?

जब हम जमीन पर स्थिर खड़े, बैठे या लेटे होते हैं तब भी इस Universe (ब्रह्माण्ड) के अकार्डिंग हम किस (गति) से मूव कर रहे होते हैं, क्या कभी आपने सोचा है?

जब आप एकदम स्थिर होते हैं तब भी आप लगभग 1000 मील प्रति घंटा की रफ्तार से जमीन के साथ गति कर रहे होते हैं और असल में इस एक टाईम में भी आप पर लट्टू की तरह कई गतियां प्रभावी हो रही होती हैं।

आप जिस जमीन पर हैं वह करीब 1670 किमी के हिसाब से घूम रही है, घूमने के साथ ही यह सूरज के चारों तरफ 107000 किमी की गति से दौड़ रही है… यह सब दौड़ जिस सोलर सिस्टम में हो रही है वह खुद भी अपने Galactic center की तरफ करीब 828000 किमी की गति से परिक्रमा कर रही है और यहां भी ठीक पृथ्वी की तरह गोल घूमते हुए यह अपनी नजदीकी Andromeda Galaxy (देवयानी आकाशगंगा) की तरफ भाग रही है।

इतना ही काफी नहीं… यह दोनों Galaxy जिस लोकल ग्रुप ऑफ गैलेक्सीज में गति कर रही हैं, वह खुद भी गति कर रहा है और यह ग्रुप जिस Supercluster में है वह भी Laniakea Supercluster इसी तरह गति कर रहा है… कहने का मतलब यह है कि यूनिवर्स में हर चीज गति कर रही है, अंधाधुँध भाग रही है और कमाल यही है कि इतनी अंधाधुँध गतियों के हम पर लागू होने के बाद भी हम किसी गति को महसूस नहीं कर सकते।

इस गति को देखना चाहते हैं?

पृथ्वी की घूर्णन गति को नंगी आंख से देखना है तो आपको इससे बाहर जाना होगा, इसकी परिक्रमण गति को देखने के लिये इस सिस्टम से बाहर निकलना होगा और इस सिस्टम को गति करते देखना है तो गैलेक्सी से बाहर जाना होगा, और इस गैलेक्सी को गति करते देखना है तो इससे बहुत दूर जाना होगा।

वैसे जितनी देर में आपने यह पोस्ट पढ़ी है,
आप Universe (ब्रह्माण्ड) में हजारों मील चल आये हैं…
क्या आपको अहसास हुआ?

~अशफाक़ अहमद

- Advertisement -

More articles

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisement -

Latest article